Call us +91 9571266258

Support

News

इस तारीख के बाद आधार से बिना लिंक मोबाइल नंबर हो जाएंगे बंद

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कहा है कि मोबाइल को आधार से लिंक करना अनिवार्य है. इसके लिए केंद्र सरकार ने कोर्ट में बाकायदा एफिडेटिव दायर किया है. जिसमें सरकार ने कोर्ट के फैसले का जिक्र किया है

एफिडेविट में केंद्र सरकार ने कहा है कि मोबाइल नंबर को आधार से लिंक करने की आखिरी तारीख भी तय है. केंद्र ने बताया कि सभी मोबाइल सब्सक्राइबर्स को अगले साल 6 फरवरी तक अपना नंबर आधार से लिंक करना अनिवार्य है. मोबाइल नंबर को आधार से लिंक नहीं करने वाले लोगों का नंबर इस तारीख के बाद बंद हो जाएगा और उन्हें नंबर से संपर्क करने में काफी मुश्‍क‍िल पैदा हो सकती है.

अगर आपने अभी तक मोबाइल नंबर आधार कार्ड से लिंक नहीं किया है, तो आप इसे आसानी से घर बैठे कर सकते हैं.इसके लिए केंद्र सरकार ने तीन तरीके बताए हैं. इसमें एक, वन टाइम पासवर्ड के जरिये लिंक करने का विकल्प है. दूसरा, आईवीआरएस के जरिये लिंक किया जा सकता है और तीसरा खुद टेलिकॉम ऑपरेटर का एजेंट आपके घर आएगा, वह मोबाइल को आधार से लिंक कर देगा.हालांकि ये तीनों सुविधाएं अभी शुरू नहीं हुई हैं. ये दिसंबर से शुरू होने की उम्मीद है. तब तक आपको मोबाइल नंबर को आधार से लिंक करने के लिए आधार एनरोलमेंट सेंटर ही जाना होगा.

अगर आप पहली बार अपना मोबाइल नंबर आधार से लिंक करवा रहे हैं, तो आपको इसके लिए बायोमैट्र‍िक डिटेल देनी होंगी.लेकिन अगर आपका एक नंबर पहले से ही लिंक है और आप दूसरा मोबाइल नंबर लिंक करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको किसी भी तरह का बायोमैट्रिक नहीं देना होगा.

मोबाइल को आधार से लिंक करने की अन्य जानकारी के लिए आप UIDAI की साइट पर जा सकते हैं और जरूरी जानकारी हासिल कर सकते हैं.

आधार है तो महीने में बुक कर सकेंगे 12 टिकट, IRCTC ने दी सुविधा

अब आधार कार्ड होने पर भारतीय रेल से यात्रा करना आसान हो जाएगा. IRCTC ने रेलवे टिकट की बुकिंग के लिए आधार वेरिफिकेशन करने पर 1 महीने के अंदर 12 टिकट बुक कराने की आजादी दी है. खास बात यह है कि रेलवे की टिकट बुक कराने के लिए आधार को अनिवार्य नहीं किया गया है. आधार वेरिफिकेशन कराने पर ऑनलाइन टिकट बुकिंग में मौजूदा 6 टिकट की लिमिट को हर महीने के लिए 12 टिकट कर दिया गया है.

IRCTC ने ऑनलाइन टिकट बुकिंग की अपनी गाइडलाइन बदल दी हैं और इस महीने से IRCTC की पोर्टल पर आधार नंबर को अपलोड करने की सुविधा दी गई है . इसमें हरेक अकाउंट पर हर महीने के लिए आधार वेरिफिकेशन होने के बाद 6 टिकट की मौजूदा लिमिट को बढ़ाकर 12 टिकट कर दिया गया है. इस लिमिट में आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर किसी अकाउंट में बुक कराए गए टिकट के साथ-साथ रेल कनेक्ट मोबाइल एप्लीकेशन ऐप के जरिए बुक कराए गए टिकट को भी शामिल किया गया है.

रेलवे की आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक आधार कार्ड को ऑनलाइन टिकट के लिए अनिवार्य नहीं किया गया है. बिना आधार कार्ड की इंफॉर्मेशन दिए ऑनलाइन टिकट बुकिंग में हर एक व्यक्ति एक महीने में छठ टिकट बुक करा सकता है. अगर एक महीने में 6 टिकट से ज्यादा टिकट आप बुक कराना चाह रहे हैं तो आपको पैसेंजर का आधार कार्ड वेरीफाई कराना पड़ेगा.

आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर कोई भी यात्री माय प्रोफाइल कैटेगरी में आधार केवाईसी पर क्लिक करके अपने आधार नंबर को अपडेट कर सकता है. इस वेरिफिकेशन के दौरान आधार से जुड़े हुए मोबाइल नंबर पर एक वन टाइम पासवर्ड भेजा जाता है. इस पासवर्ड को वेबसाइट पर डालने पर आधार कार्ड का वेरिफिकेशन हो जाता है.

बता दें कि पिछले दिनों सीनियर सिटीजन कंसेशन में आधार कार्ड को अनिवार्य करने की कोशिश नाकाम रही थी. पिछले साल दिसंबर में रेलवे ने रेल टिकट पर सीनियर सिटीजन के लिए रियायत हासिल करने के वास्ते आधार कार्ड का रजिस्ट्रेशन जरूरी किए जाने का ऐलान किया था. लोगों के विरोध के बाद और तकनीकी खामियों के चलते इस को रोक दिया गया था. इन सबके बीच रेलवे के टिकटों की दलाली को रोकने के लिए रेलवे ने एक बार फिर से आधार का सहारा लिया है, लेकिन इस बार आधार को अनिवार्य नहीं बनाया गया है.

आधार पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, 31 दिसंबर तक बैंक खातों को लिंक कराना होगा

आधार कार्ड पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को बड़ा फैसला सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया है कि बैंक खातों को 31 दिसंबर से पहले आधार कार्ड से लिंक कराना ही होगा. वहीं मोबाइल से लिंक करने की आखिरी तारीख 6 फरवरी है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि  सभी कंपनियों और बैंकों को अपने ग्राहकों को आखिरी तारीख बता देनी चाहिए. जिससे कोई दिक्कत ना हो.

केंद्र सरकार ने कोर्ट से कहा है कि अभी इस पर आखिरी फैसला भी लेना है, हम आखिरी तारीख 31 मार्च तक बढ़ा सकते हैं. आपको बता दें कि कोर्ट की संवैधानिक बेंच आधार से जुड़ी ऐसी कई याचिकाओं पर सुनवाई की, जिसमें इसकी अनिवार्यता को ‘निजता के अधिकार’ का हनन बताया गया है.

मिली थीं कई चुनौती

सुप्रीम कोर्ट में आधार कार्ड की वैधता और अनिवार्यता पर सवाल खड़े करते हुए कई याचिकाएं डाली गई हैं. हाल ही में कर्नल मैथ्यू थॉमस ने याचिका दायर कर कोर्ट से गुहार लगाई है कि बायोमेट्रिक प्रणाली की कई बार गड़बड़ियां सामने आई हैं. लिहाजा इसकी वैधता भी शक के दायरे में है. साथ ही हर नागरिक सुविधा और बुनियादी अधिकार की रोशनी में भी इसकी अनिवार्यता यचित नहीं है.

सरकार आधार के पक्ष में

अपने ताजा शपथ-पत्र में केंद्र सरकार ने कहा था कि मौजूद बैंक खातें 31 मार्च तक आधार न जमा करवाने तक काम करते रहेंगे लेकिन नए खाते खुलवाने के लिए पहचान के तौर पर आधार या पंजीकरण संख्या देना अनिवार्य होगा. वहीं केंद्र ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कहा है कि अभी मोबाइल फोन धारकों को 6 फरवरी तक अपना फोन आधार के साथ लिंक करवाना जरूरी है. सरकार की कोशिश इस दिशा में सुप्रीम कोर्ट से आदेश पारित करवाने की है.

वहीं साइबर सुरक्षा के बारे में केंद्र सरकार ने कहा है कि हाल के दिनों में कई देशों को साइबर हमलों का शिकार होना पड़ा है लेकिन आधार और इसके किसी भी सर्वर पर हैकिंग या डेटा लीक होने की कोई भी घटना सामने नहीं आई है.

क्या है आधार एक्ट…

बता दें कि सरकार ने कई सरकारी योजनाओं के लिए आधार कार्ड को अनिवार्य कर दिया है. आम आदमी के लिए यह अनिवार्य कर दिया गया है कि वह आधार कार्ड को अपने बैंक अकाउंट और मोबाइल नंबर से भी लिंक कर दें. ‘आधार’ की अनिवार्यता के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पांच जजों की संवैधानिक बेंच गठित करने का फैसला किया है.

फर्जी दस्तावेज बना पासपोर्ट के लिए आवेदन किया, मुकदमा दर्ज

सोजतरोड | सोजतरोडकस्बे में एक युवक ने पासपोर्ट बनाने के लिए अपने ही रिश्तेदार के फर्जी दस्तावेज पेश कर आवेदन कर लिया, जबकि उन दस्तावेज से पहले से ही पासपोर्ट बना हुआ था। इसको देखते हुए पासपोर्ट कार्यालय ने दोनों व्यक्तियों की जांच करने के लिए सोजत रोड पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने जांच के बाद इस संबंध में मुकदमा दर्ज कर लिया। पुलिस ने बताया कि किशनराय पुत्र अमर राय भाट निवासी गुमानपुरा, सोजत रोड का पहले से ही पासपोर्ट बना हुआ था। इसी के रिश्तेदार किशनलाल पुत्र जगदीश भाट ने किशनराय के दस्तावेज लगा कर पासपोर्ट के लिए आवेदन कर दिया, जो मामला पासपोर्ट कार्यालय के सामने गया तो किशनलाल द्वारा प्रस्तुत आवेदन पत्र को निरस्त कर दिया। कुछ दिनों बाद जब किशनराय अपने पासपोर्ट को रिन्यू कराने पासपोर्ट कार्यालय पहुंचा तो उसे उसके नाम दस्तावेज से अन्य पासपोर्ट के लिए आवेदन करने की जानकारी देते हुए उसके पासपोर्ट के रिन्यू को रोक दिया। पुलिस ने दोनों की जांच की तो दोनों का नाम एक जैसा होना पाया, लेकिन दोनों व्यक्ति अलग- अलग थे।

सांडिया के पास शॉर्टकट के चक्कर दो बाइक की टक्कर, एक की मौत

सोजतपुलिस थाना क्षेत्र के सांडिया-चंडावल के बीच फोरलेन 162 गंगस्वामी मंदिर के पास गुरुवार रात 8 बजे के करीब दो बाइक की आमने-सामने टक्कर हो गई। हादसे में गंभीर रूप से घायल जगदीश चौकीदार पुत्र मांगीलाल चौकीदार निवासी हाजीवास रायपुर की मौके पर ही मृत्यु हो गई। वहीं सामने से रहे बाइक सवार दौलतसिंह जैतावत पुत्र रणवीरसिंह निवासी गुड़ा बच्छराज गंभीर रूप से घायल हो गया। दुर्घटना की सूचना मिलने पर पुलिस चौकी प्रभारी मनोहरलाल खोजा मय जाब्ता मौके पर पहुंचे घायल दौलतसिंह राजपूत को राजकीय अस्पताल सोजत लाया। यहां से उसकी हालत चिंताजनक होने पर जोधपुर रेफर किया गया है। शुक्रवार सुबह पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंपा जाएगा।

सांडिया के पास गंगस्वामी मंदिर पर गलत दिशा शॉर्ट रास्ता अपनाने से हुआ हादसा

बाइकसवारों ने हेलमेट पहना होता तो बच जाती जान : गुरुवाररात को दो बाइकों की आमने-सामने टक्कर में दोनों बाइक सवारों ने हेलमेट नहीं पहन रखा था। दोनों बाइक सवारों के सिर में ही गंभीर चोटें आने से जगदीश चौकीदार ने मौके पर ही दम तोड़ दिया है।