Call us +91 9571266258

Support

Sojat City – “The Henna City”

मेहंदी नगरी सोजत,

राजस्थान के पाली ज़िले में सूकड़ी नदी के किनारे स्थित एक शहर है। यह इसी नाम से एक तहसील भी है। सोजत राष्ट्रीय राजमार्ग 162 पर स्थित है। प्राचीन काल में यह शहर ‘तम्रावती’ के नाम से जाना जाता था। यह स्थान सेजल माता मन्दिर, चतुर्भुज मन्दिर और चामुण्डा माता मन्दिर जैसे तीर्थों और एक क़िले के लिये जाना जाता है। हिना की खेती इस शहर का प्रमुख आकर्षण है, जिसके लेप का उपयोग शरीर के हिस्सों पर अस्थाई डिज़ाइन बनाकर श्रृंगार के लिये किया जाता है।

ऐतिहासिक एवं धार्मिक नगरी सोजत को हिना शहर (मेहंदी नगरी) भी कहा जाता है, सोजत शहर की उत्पत्ति और उत्पादित भारत की सबसे बड़ी मेहंदी मंडी है। इस क्षेत्र में उत्पादित मेहंदी को दुनिया भर में “राजस्थानी हिना” के रूप में लोकप्रियता मिली है। यह हाथों और पैरों पर अमीर अंधेरे लाल रंग का दाग प्रदान करता है और बाल के लिए एक अच्छा प्राकृतिक कंडीशनर के रूप में भी कार्य करता है। इसकी अनुकूल जलवायु परिस्थितियों और मिट्टी सोजत भारत में एकमात्र ऐसा क्षेत्र है जहां मेहंदी का उत्पादन होता हैं और दुनिया भर में निर्यात किया जाता है: इस क्षेत्र में उत्पादित लगभग 90% मेहंदी को लगभग 130 देशों में निर्यात किया जाता है। सूखा मृग पत्तियों में 0.5-2.5% की इस क्षेत्र के मेहंदी में सूझबूझ की एक उच्च सामग्री है (मेहंदी पाउडर में डाइंग एजेंट) यह अपने आप को प्रोटीन के लिए मजबूती से जोड़ता है, और इसके परिणामस्वरूप डाई बहुत तेज बनती है |

राजस्थान सरकार (कृषि विपणन बोर्ड ) ने इस क्षेत्र के मेहंदी पत्तियों के उत्पादन और विपणन को बढ़ावा देने के लिए सोजत शहर में कृषि उपज मंडी की स्थापना की कृषि उपज मंडी की भूमिका इस क्षेत्र के मृगसान किसानों को उचित रिटर्न सुनिश्चित करने के लिए है। वे आवश्यक सुविधाएं और सुविधाओं को उपलब्ध कराने के माध्यम से बाजार गज के सामान्य विकास के लिए भी जिम्मेदार हैं। रोज़ रोज 140-150 मीट्रिक टन मेहंदी पत्ते सोजत शहर में इस कृषि उपज मंडी के माध्यम से व्यापारियों और निर्माताओं को मेहंदी किसानों द्वारा बेची जाती है शहर चूना पत्थर और हस्तनिर्मित कैंची के लिए भी प्रसिद्ध है।

सोजत का इतिहास

प्राचीन ऐतिहासिक एवं धार्मिक नगरी सोजत के रक्त रंजित इतिहास के साथ साथ धार्मिक आस्था के बीच परवान चढ़ती अध्यात्म की ज्योति तथा सुर्ख मेहन्दी की आभा ने इसे अन्तराष्ट्रीय  मानचित्र पर प्रसिद्धि दिलवाई है। यह भूमि देवताओं की क्रीड़ा स्थली एवं ऋषि मुनियों की तपो भूमि प्राचीन सभ्यताओ की समकालीन रही है। शास्त्रों में शुद्धदेती के नाम से प्रसिद्ध इस नगरी के नाम का सफर भी बड़ा ही रोमांचक एवं रोचक रहा है। आबू और अजमेर के बीच किराड़ू लोद्रवा के पुंगल राज के दौरान पंवारों का यहां पर भी राज था तथा राजा त्रंबसेन त्रववसेन सोजत पर राज करता था तब इस नगरी का नाम त्रंबावती नगरी हुआ करता था।
राजा त्रवणसेन के सोजत सेजल नाम की एक 8-10 वर्षीय पुत्री थी जो देवताओं की कला को प्राप्त कर शक्ति का अवतार हुई। यह बालिका आधीरात को पोल का द्वार बंद होने के बाद देवी की भाखरी पर चौसठ जोगनियों के पास रम्मत करने जाती थी राजा को शक होने पर उसने अपने प्रधान सेनापति बान्धर हुल को उसका पीछा करने का निर्देश दिया। एक दिन सेजल के रात्रि में बाहर निकलने पर बांधर उसके पीछे पीछे भाखरी तक गया तब जोगनियों ने कहा आज तो तूं अकेली नहीं आई है। तब सेजल ने नीचे जाकर देखा तो उसे सेनापति नजर आया। सेजल ने कुपीत होकर उसे शाप देना चाहा तब वह उसके चरणों में गिर गया तथा बताया कि वह तो उनके पिताजी के आदेश से आया है। इस पर उसने बांधर को आशीर्वाद दिया तथा अपने पिता को शाप दिया। बालिका ने बांधर से कहा कि आज से राजा का राज तुझे दिया। तू इस गांव का नाम मेरे नाम सोजत पर रखकर अमुक स्थान पर मेरी स्थापना करके पूजा करना। इतना कहकर वह देवस्वरुप बालिका जोगनियों के साथ उड़ गई। राजा को जब यह बात पता चली तो दुखी होकर उसने अपने प्राण त्याग दिए। इसी बांधर हुल ने सेजल माता का मंदिर एवं भाखरी के नीचे चबूतरा तथा पावता जाव के पीछे बाघेलाव तालाब खुदवाया। इसके बाद सोजत पर कई वर्षों तक हुलों का राज रहा जिसमें हरिसिंह हुल हरिया हुल नाम से प्रसिद्ध राजा हुआ।
इसके बाद में मेवाड़ा के राणा ने इसे सोनगरा एवं सींघलों को दे दिया। राव राधवदास सहेसमलोत को रावताई में पट्टे में दिया गया। राव जोधा ने लक्ष्मीनारायण के ठाकुरद्वारे के रूप में दिया। सोनगरा राजा रावल कानड़ दे का राज भी सोजत पर रहा, राणा ने राव रिडमल को मंडोर के साथ सोजत दिया। राणाकुंभा ने राव राघोदास को पट्टे में दिया।  राजा पृथ्वीराज चौहान, नाहड राव पंवार मधो लहर की वेढ़ के बाद सोलंकी राजा भींवदे, फिर सिंघलों का राज रहा। बाद में राव सुजा को बादशाह ने यह नगरी दी। वहीं राव वीरम देव को भाई बन्ट में प्राप्त हुई। संन 1588 में रावगंगा के अधिकार में रहा उसके बाद उसके पुत्र राव मालदेव तथा उसके बाद राव चन्द्रसेन का राजतिलक हुआ। संत 1621 में अकबर बादशाह का अधिकार सोजत पर हो गया। राव कला रांमोत केक बाद क्रमश सोजत पर राव सुरताण जैमलोत, संवत 1665 में राजा सूरज सिंह 1676 में राजा गजसिंह, 1694 में जसवन्त सिंह, रायसिंह , मोटा राजा उदय सिंह ने 1641 में इसके नवाब खान खाना को दिया। 1956 मेें शक्ति सिंह को 1 वर्ष के लिए दिया गया। 1664 में जहागीर ने इसे करम सेन उग्र से नोत को दिया। महाराजा विजय सिंह के समय सोजत में कई निर्माण कार्य हुए। बात सोजत रा परंगना री में मुहंता नैणसी लिखता है कि छोटी सी भाकरी उपर छोटा सा कोट है जिसमें सादे मकान है। राजा गजसिंह के समय एक घर नया बना यहां वीरम दे बाधावत देवस्वरूप हुआ। जिसका दिवला बना हुआ है। घोड़े बधने की पायगा बनी हुई है घर के बाहर दरबार बैठने का चबुतरा है। किले के एक पोल है जो राव निंबा जोधावत द्वारा बनवाई है।
तुर्कोद्वारा परकोटा बनवाया हुआ है। परगने में हाकम, सरदार रहते है परकोटे की प्रोल के उपर दीवान खाना तथा नीचे कोठार है। प्रोल के नजदीक चारभुजा मंदिर है। सोजत के तालाबों का हलवा देते हुए नैणसी ने बताया कि धुवन्ली वाड़ी के पास कुंवर वाधा सुजावत ने बघेवाल किले के नीचे रिडमल ने रिडमेलाव पावटा के आगे बाघेलाव जो अब पाट दिया गया है तथा श्रीमाली ब्राह्मण गादा ने हणवन्त थान के पास सोझाली की स्थापना कर हनवन्त नाडी खुदवाई है।

History of Sojat

With the blood-stained history of ancient historical and religious cities, as well as religious beliefs, the flame of spirituality and the flavor of the sweetheart has brought fame to the international map. This land is a playground of Gods and the Tapo Bhumi of Sage Munis has been contemporary in ancient civilization. The journey of the name of this city, popularly known as Purnadevi in the scriptures, is also very exciting and interesting. During the Puangal raj of the Kiradu Lodhwa between Abu and Ajmer, the Panwaras ruled over here and the king used to rule the river Trabasen, when the town was named Turbawati.
There was an 8-year-old daughter named Sage Sejal of King Trvainsen, who attained the art of the Gods and was depicted as a power. After the closing of the pole at half an hour, after the closure of the pole, he used to go to Jodhian on the Bhakari of Devi. When the king was in doubt, he instructed his Chief General Banander Hull to follow him. One day, after going out on the night of Bijal, the binder followed him to Bhakri, then Joganias said that today you have not come alone. Then Sejal went down and looked at him as commander. When Sejal wanted to curse him, he fell at his feet and told that he came from the order of his father. On this he blessed the binder and cursed his father. The girl said to the binder that from now on the king’s rule has given you. You keep the name of this village on my name, Sojot, and worship it at the place of worship. By saying so, she flew away with the gods and goddess Joganias. When the king came to know about this, he left his life after being unhappy. The same damn Hull followed the temple of Sejal Mata and under the Bhakri and the Baigalev lake on the back of the river Javan. After this, Hulis ruled on Sujat for many years, in which Harisinh Hull became the famous King of Haryana Hull.
After this Rana of Mewada gave it to Sonarga and Singhalgals. Rao Radhavadas Sashellot was given a lease in Ratavi. Rao Jodha gave Thakurus of Lakshminarayan. Sonarga Raja RAVAL KARAD DE RAJ remained on the boil, Rana gave Rao Redmail to Mandore. Rana Kumba gave Rao Raghodas a lease. Raja Prithviraj Chauhan, Nahad Rao Panwar, after the rift of the bees, Solanki King Bhawnode, then the rule of the Singhs. Later, the emperor gave this city to Rao Suja. At the same time, Rao Veeram Dev got a brother in Bunt. After being in possession of Ravaganga in 1588, his son Rao Maldev and then Rao Chandraseen became king. In 1621, the right of the Akbar king was right on the ground. Rao Surat Jemlot on Sojot, Rao Suraj Singh in 1665, King Gaj Singh in 1676, Jaswant Singh, Raisingh, Raisingh, Moti Raja Uday Singh in 1694, gave his Nawab Khan Khan in 1641 to Rao Art Random Kaak. In 1956, Shakti Singh was given for 1 year. In 1664, Jahangir gave it to Karam Sen from Nirm to Nog. During the reign of Maharaja Vijay Singh, there were many construction works in Sojet. Mukhta Nansi writes in the matter of Soojat Raanganga Re, that there is a small coat on a small bread, in which there is a plain house. At the time of King Gajsingh, a new house was built, here Veeram da Badhavat Dev is formed. Whose lamp is made. There is a foothold of horse riding, there is a window to sit outside the house. The fort has a pole which is made by Rao Nimboda Jodhav.
Turko is made of pakata. In the paragain, the commander is the master, the dish is on the prol, and the cellar below. There is a temple of Charbhuja near Prol. Nansi, while giving the pond of Sojat ponds, told that Kunwar Wada Sujawat near Dhovanlali Wadi, under the Bagheval Fort, the Bidgewal, which is now split in front of the Ridemvel Pawta, and now the Srimali Brahmin Gada established Sajhali near Hanvant Thana, Hanvant The pulse is in operation.

List of Villages in Sojat Tehsil

Abkai Ki Dhani
Ajeetpura
Alawas
Atpara
Bagawas
Bagri
Bariyala
Basna
Basni Anant
Basni Bhadawatan
Basni Jodhraj
Basni Mootha
Basni Narsingh
Basni Surayta
Basni Tilwadiyan
Bhaisana
Bhaniya
Bhanwar Bhata
Bijliyawas
Bijpur
Bilawas
Birawas
Boyal
Butelao
Chamdiyak
Chandasani
Chandawal
Chandawal Station
Charwas
Chheetariya
Chopra

Chundlai
Dadi
Deo Nagar
Deoli Hulla
Dhakri
Dhandheri
Dhangarwas
Dheenawas
Dhoondha Lambodi
Dhurasani
Dornari
Gagura
Gajnai
Godelao
Guda Beeja
Guda Bhadawatan
Guda Chatura
Guda Kalan
Guda Ramsingh
Guda Shyama
Gurha Bachhraj
Hapat
Haripur
Hariya Mali
Heerawas
Hingawas
Jhupelao
Kanawas
Karmawas
Kelwad
Ker Khera

Khakhra
Khamal
Khariya Neev
Khariya Soda
Khariya Swami
Kharnikhera
Khejari Ka Bala
Khera Nabra
Khokhara
Khoriya
Ladpura
Lakhan Ka Khet
Lanera
Lundawas
Malpuriya Kalan
Malpuriya Khurd
Mamawas
Mandla
Meo
Morawas
Murdawa
Nai Dhani
Napawas
Nathal Kundi
Naya Gaon
Pachchwa Khurd
Pachunda Kalan
Pachunda Khurd
Panchwa Kalan
Peeplad
Pokariya Nadi

Potaliya
Rajola Kalan
Ramasani Sandwan
Ramasanibala
Rayara Kalan Khurd
Rendari
Reprawas
Rodawas
Roondiya
Roopnagar
Rupawas
Salarmal
Sand Magra
Sandarda
Sandiya
Sarangwas
Sardar Samand
Sardarpura
Shiv Nagar
Shivpura
Singpura
Sisarwada
Siyat
Sobrawas
Sohan Nagar
Sojat
Sojat Road
Surayta
Tharasani
Udeshi Kua
Vaidhnath Mahadev Nagar

Nearby Towns / Cities of Sojat

Bali
Desuri

Jaitaran
Marwar Junction

Pali
Raipur

Rohat
Sumerpur